UXV Portal News Tamil Nadu View Content

MP asks ICAI chief to withdraw comment on imposition of Hindi

2021-10-27 01:28| Publisher: Zimranw| Views: 1367| Comments: 0

Description: सुवेंकटसन मदुराई: सुवेंकटसन सांसद ने भारत के मानक लेखाकार संस्थान (आईसीआईए) के अध्यक्ष निहार एन. जम्मूसारिया से भारत में हिंदी को बढ़ावा देने के बारे में अपने वक्तव्य को वापस लेने का अनुरोध किया है, जैसा कि...

सुवेंकटसन
मदुराईः सुवेंकटसन सांसद ने भारतीय मानक लेखाकार संस्थान (आईसीआईए) के अध्यक्ष निहार एन. जम्मूसारिया से इस महीने संस्थान के गृह पत्रिका ‘द चार्टरेड लेखाकार’ में उल्लिखित हिन्दी को बढ़ावा देने के बारे में अपने वक्तव्य को वापस लेने का अनुरोध किया है।
वेंकटसन ने कहा कि जम्मू-कश्मीर ने लिखा था कि ‘हमारे मातृभाषा हिंदी की शक्ति को साकार करते हुए आईसीए अपनी कार्य संस्कृति में हिंदी का अधिक प्रयोग करने का प्रयास कर रहा है।’ सांसद ने कहा कि यह गैर-हिन्दी बोलने वाले राज्यों के लोगों की भावनाओं को हानि पहुंचाता है और हमारे देश की भाषायी बहुलता की भावनाओं के अनुरूप नहीं है।
हिन्दी न तो चार्टरित लेखाकारों की संपूर्ण समुदाय की मातृभाषा है और न ही उन सभी की, जो उनकी सेवाओं का लाभ उठाते हैं और न ही देश के करोड़ों लोगों की, जो किसी भी कंपनी या किसी व्यष्टि के लेखा निर्धारण के लिए आईसीएआई के कार्य पर निर्भर हैं। उन्होंने कहा कि 35 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में से केवल 12 ने हिन्दी को संचार के प्रथम विकल्प के रूप में चुना है। बाकी के अधिकांश लोगों ने 2018 में प्रकाशित 2011 भाषा जनगणना के परिणामों के अनुसार अंग्रेजी का चुनाव किया। उन्होंने कहा, आईसीए संसद के एक अधिनियम द्वारा बनाया गया एक संस्था है और उसे भूमि के कानून का पालन करना होता है और इसके विपरीत कार्य करना संविधान के कथित प्रावधानों का पूर्ण उल्लंघन है।
फेसबूक ट्विटर लिंकेडिन ई-मेल

Pass

Oh No

Hand Shanking

Flower

Egg
no comment yet, Be the first to comment!