UXV Portal News Gujarat View Content

नवसारी आदिवासी जीविका अर्जित करने के लिए जल कृषि और मुर्गीपालन में लगे हैं।

2021-10-27 09:30| Publisher: rameshm.serigar| Views: 2589| Comments: 0

Description: कटाई मेले के दौरान 42 जनजातीय गांव के लोगों ने 1,85 लीटर अर्जित किया। सौातः नवसारी शहर से लगभग 12 किमी. दूर एक छोटा जनजातीय गांव सिंगोद ग्रामीण क्षेत्रों में आजीविका सृजन के लिए एक मॉडल के रूप में विकसित किया जा रहा है।

कटाई मेले के दौरान जनजातीय गांव के 42 लोगों ने 1,85 लीटर कमा लिया।
सूरतः नवसारी शहर से लगभग 12 किलोमीटर दूर एक छोटा जनजातीय गांव सिंगोड ग्रामीण क्षेत्रों में आजीविका सृजन के लिए एक मॉडल के रूप में विकसित किया जा रहा है। ग्रामीण जो मुख्यतः कृषि और श्रम कार्य पर निर्भर थे, आय अर्जन के नए तरीके अपनाए हैं जिनमें जल कृषि, मुर्गीपालन और सब्जियों का उत्पादन शामिल है।
जनजातीय गांव के 42 लोगों के एक समूह ने रविवार को आयोजित प्रथम फसल मेला के दौरान 1,85 लाख रुपये कमा लिया। ग्रामवासियों ने 1200 किलोग्राम मछली 1,56 लाख रुपये, 120 किलोग्राम मुर्गी 21,00 रुपये और 7,500 रुपये का सब्जियां बेचीं। पिछले 10 महीनों में उनके प्रयासों का अच्छा परिणाम हुआ। यह अनुमान लगाया गया है कि इस समूह को मछलियों की कटाई, सब्जियों और मुर्गीपालन से प्रतिवर्ष लगभग 14 लाख रुपये की आय प्राप्त हो सकती है।
यह गांव भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) और केंद्रीय ब्रैकिश्वेटर जलकृषि संस्थान (सीआईबीए) के एक दूरस्थ केंद्र नासारी गुजरात अनुसंधान केंद्र (एनजीआरसी) की एक प्रायोगिक परियोजना का हिस्सा है।
चेन्नई स्थित आईसीसीआर-सीबा देश में ब्रैकिश्वेटर जल कृषि अनुसंधान के लिए एक नोडल केंद्र है। यह ब्रैकिश्वेटर जलकृषि अनुसंधान और किसानों की आजीविका विकास के लिए उत्तरदायी है।
इस परियोजना के एक भाग के रूप में हमारा लक्ष्य जनजातियों के लिए एक आजीविका मॉडल विकसित करना था। ग्रामीणों के समूह को आवश्यक बुनियादी सुविधाओं के विकास के लिए हमारी सहायता मिली है,” ने एनजीआरसी के वैज्ञानिक पंkaj पटिल कहा।
स्वयंसेवी समूह सिंगोड हाल्पाति समिति के नेता कौसिक हाल्पाति ने कहा कि उनके जीवन में अब तक उपयोग में न लाए जाने वाले 2 एकड़ के मछली में जलपालन के कारण परिवर्तन हुआ है।
फेसबूक ट्विटर लिंकेडिन ई-मेल

Pass

Oh No

Hand Shanking

Flower

Egg
no comment yet, Be the first to comment!