UXV Portal News Chhattisgarh View Content

छत्तीसगढ़ में जनजातीय सांस्कृतिक कार्निवल आरंभ हुआ

2021-10-29 18:53| Publisher: nazmalaiz| Views: 2147| Comments: 0

Description: झारखण्ड और छत्तीसगढ़ के CM ने जुगल मंडली में भाग लियाRAIPUR: झारखण्ड में तीन दिन तक चल रही "राष्ट्रीय जनजाति नृत्य उत्सव " की शुरुआत के साथ छत्तीसगढ़ अब उत्सवपूर्ण उत्साह में डूब गया है। जनजाति...

झारखंड और छत्तीसगढ़ के CM ने जुडलबाड़ी में भाग लिया।
रायपुरः छत्तीसगढ़ में तीन दिवसीय राष्ट्रीय जनजाति नृत्य उत्सव की शुरुआत होने के बाद अब समारोहिक उत्साह में डूबा हुआ है। देश भर और सात विभिन्न देशों के आदिवासी नृत्यकर्ता अपनी अनोखी संस्कृति और परंपराओं का प्रदर्शन कर रहे हैं, जिससे यह एक प्रमुख आदिवासी सांस्कृतिक त्यौहार बन गया है।
यह रंगीन उत्सव Perşembe को विज्ञान कॉलेज मैदान में शुरू हुआ जिसमें आदिवासी नेता और झारखंड के मुख्यमंत्री हेमानत सोरेन ने ‘राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य उत्सव’ और ‘राज्योत्सव 2021’ के दूसरे संस्करण का उद्घाटन किया। इसके बाद सभी भागीदार दलों ने बहुत रंगीन ढंग से यात्रा की।
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राहुल गांधी ने अपने संदेश में कहा, ‘‘राष्ट्री य एडivasi नृत्य उत्सव 2021 के अवसर पर मैं छत्तीसगढ़ सरकार को भारत भर के एडivasi कलाकारों को अपनी अनोखी सांस्कृतिक परंपराओं को प्रदर्शित करने के लिए एक मंच प्रदान करने के लिए बधाई देता हूं। मुझे खुशी है कि छत्तीसगढ़ सरकार हमारी आदिवासी कलाकारों को समर्थन देने और उन्हें मान्यता देने के लिए सक्रिय रूप से कार्य कर रही है।
छत्तीसगढ़ जनजाति संस्कृति को संरक्षण, गौरव और संवर्धन के लिए नवान्वेषी कार्य कर रहा है। यह केवल राष्ट्रीय जनजाति नृत्य उत्सव नहीं है बल्कि यह जनजाति समुदायों के लिए सम्मान है। जनजातीय वर्ग का कई वर्षों से शोषण किया जा रहा है, सामाजिक, शैक्षिक और आर्थिक दृष्टि से पिछड़े रहा है। अगर हम सब चाहते हैं तो यह आदिवासी वर्ग हमारे साथ चल सकता है और आगे बढ़ सकता है। झारखण्ड के मुख्यमंत्री हेमानत सोरेन ने कहा कि आदिवासी वर्ग के विकास के लिए मुख्य मंत्री भूपेश बागेल की यह कोशिश एक मील-टोन साबित होगी।
उद्घाटन समारोह में उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए, मुख्यमंत्री भूपेश बागल ने कहा, ‘‘विविधता में एकता हमारी शक्ति और पहचान है। यह कार्यक्रम विश्व की आदिवासी संस्कृति को एक मंच पर लाने के लिए आयोजित किया जा रहा है, ताकि वे इसे जोड़ सकें और उसका सम्मान करें, ताकि वे जान सकें कि उनकी संस्कृति उनकी ताकत है और आगे बढ़ सकें। सभी जनजातियों की एक अलग सांस्कृतिक पहचान है। उनकी भाषा, उत्सव, नृत्य और देवता भी भिन्न हैं। इस नृत्य उत्सव के माध्यम से हमें एक मंच पर जनजातियों की सांस्कृतिक विविधता और उनकी कला को देखने और जानने का अवसर मिलता है।
दो जनजाति प्रधान राज्यों छत्तीसगढ़ और झारखंड के मुख्यमंत्रियों ने भी पारंपरिक वाद्य और तुरही बजाकर जुगलबानी का आयोजन किया। इसके अलावा, झारखंड के मुख्यमंत्री हेमानेंट सोरेन ने छत्तीसगढ़ सरकार के विभिन्न विभागों द्वारा आयोजित विकास प्रदर्शनी का उद्घाटन किया और उसे निरीक्षण किया।
इस अवसर पर संस्कृति मंत्री अमरजीत भागत, पर्यटन मंत्री तामराद्वाज साहू, कृषि मंत्री रवीन्द्र चौधरी, वन मंत्री मोहम्मद अकबर, स्कूली शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाई सिंह टेकम, शहरी विकास मंत्री डॉ. शिवकुमार दयारिया, उद्योग मंत्री कवसी लख्मा, खेल मंत्री उमेश पटेल, विश्व स्वास्थ्य विकास मंत्री अनिला Bhediya, राजस्व मंत्री जय सिंह आगरावाल, पीएचई मंत्री गुरु रुद्र कुमार तथा संसदीय सचिव, एमएलए, अन्य लोक प्रतिनिधि तथा बहुत से लोग उपस्थित थे।
नाइजीरिया और फिलीस्तीन के नृत्यकर्ताओं ने उद्घाटन समारोह के दौरान अपनी जीवंत जनजाति नृत्य प्रस्तुति प्रस्तुत की और अतिथियों और श्रोताओं ने उनके महान अभिनय के लिए पुकार दिया। छत्तीसगढ़ के आदिवासी नृत्यकारों ने बस्तर के प्रसिद्ध गौर सिंग नृत्य का प्रदर्शन किया जबकि त्रिपुरा के नृत्यकारों ने होजागिरि नृत्य का प्रदर्शन किया।
विवाह समारोह श्रेणी में दोपहर में आयोजित नृत्य प्रतियोगिता में मध्य प्रदेश की टीम ने गोंड-कर्मा नृत्य पर अपने नृत्य प्रदर्शन का प्रदर्शन किया जबकि झारखंड की टीम ने अपने कड़सा नृत्य का प्रदर्शन किया। जम्मू-कश्मीर की टीम ने अपनी गोजीरी नृत्य पर एक रोमांचक प्रदर्शन किया और आंध्र प्रदेश की टीम ने अपनी गौराबलू नृत्य प्रस्तुत किया। इसी प्रकार असम, आंध्र प्रदेश, उड़ीसा, तेलंगाना और गुजरात के टीमों ने अपने मूल नृत्य रूपों का प्रदर्शन किया।
कटाई-कृषि और अन्य पारंपरिक विधाओं पर आयोजित प्रतियोगिता में छत्तीसगढ़ के नृत्यकर्ताओं ने कार्मा नृत्य, उत्तराखण्ड में ज्ञानजी हन्ना नृत्य, तेलंगाना में गुसादी-दिम्सा नृत्य, झारखंड में ओरावन नृत्य और गुजरात में सिद्दी गोमा नृत्य पर एक आकर्षक प्रदर्शन किया।
छत्तीसगढ़ के राज्यपाल अनुसिया उईकी ने शाम के बाद कार्यक्रम पर बोलते हुए कहा, ‘‘इस नृत्य उत्सव में विविधता में एकता की एक विशिष्ट छाया दिखाई देती है। ऐसा लगता है मानो यहां एक मिनी इंडिया इकट्ठा हो गया हो। यह उत्सव विभिन्न परंपराओं और संस्कृतियों का एक संगम है।
उन्होंने इस शानदार नृत्य समारोह के आयोजन के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बागेल, उनके मंत्रिमंडल के सहयोगियों और पूरे टीम को बधाई दी।
इस बीच कलाकारों में बहुत उत्साह है। कलाकारों ने कहा कि छत्तीसगढ़ आने से वे प्रसन्न हैं। यह आदिवासी सांस्कृतिक आदान-प्रदान के लिए एक महान मंच है और उनके विशिष्ट नृत्य रूपों को प्रस्तुत करता है। लक्षद्वीप से आ रहे कलाकार मुमताज ने कहा कि हमारे टीम में 20 कलाकार हैं और हम पहली बार इस समारोह में भाग लेते हैं। हम रोमांचक और उत्तेजित हैं। इसी प्रकार हरियाणा के मुस्कान शमी और कृष्ण कुमार शर्मा ने कहा कि हम हरियाणा के लोक नृत्य का प्रदर्शन करेंगे और हम बड़े दर्शकों के सामने इस मंच पर प्रदर्शन करने के लिए बहुत उत्सुक हैं।
राष्ट्रीय जनजातीय नृत्य उत्सव और राज्योत्सव 2021 के तहत आयोजित कार्यक्रम का मुख्य अतिथि पंजाब के मुख्यमंत्री चरनजीत सिंह चन्नी कल रात ८ बजे होंगे।
फेसबूक ट्विटर लिंकेडिन ई-मेल

Pass

Oh No

Hand Shanking

Flower

Egg
no comment yet, Be the first to comment!