UXV Portal News Tripura View Content

प्रजातियो ने सांप्रदायिक हिंसा पर विपक्ष को दबाया

2021-10-30 20:27| Publisher: Majoritya| Views: 2448| Comments: 0

Description: AGARTALA: तिब्बा मोथा प्रमुख और राजवंशी प्रद्योत किशोर देवबरमान ने शुक्रवार को विपक्ष के कांग्रेस और सीपीएम पर भारी आरोप लगाया कि वे सांप्रदायिक सौहार्द बनाए रखने के लिए पर्याप्त नहीं कर रहे हैं और...

AGARTALA: तिब्बा मोथा प्रमुख और राजवंशी प्रदयित किशोर देवबरमान ने शुक्रवार को विपक्ष के कांग्रेस और सीपीएम पर भारी आरोप लगाया कि वे सांप्रदायिक सौहार्द बनाए रखने के लिए पर्याप्त काम नहीं कर रहे हैं और सांप्रदायिक एकता को उलझन देने के लिए बाहरी तत्वों के खिलाफ विरोध किया।
उत्तरी त्रिपुरा के पाणिसागर में विश्व हिंदू परिषद (वी. एच. पी.) कार्यकर्ताओं द्वारा एक मस्जिद, अल्पसंख्यक मुसलमानों के कुछ घरों और दुकानों के आतंकवाद और कुछ स्थानों में मुसलमानों द्वारा उसके बाद किये गये प्रतिशोध का उल्लेख करते हुए प्रद्योत ने कहा, "सभी राष्ट्रीय राजनीतिक दल मतदान-बैंक राजनीति कर रहे हैं और ऐसे घटनाओं के विरूद्ध आक्रामक रूप से नहीं निकल रहे हैं।"
उन्होंने प्रश्न किया कि यदि राहुल गांधी या सीताराम येचुरी दिल्ली से अल्पसंख्यकों पर किये गये आक्रमणों की निंदा tweet कर सकें तो त्रिपुरा प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष, सीपीएम राज्य सचिव या विपक्ष के नेता माणिक सरकार ने सांप्रदायिक हिंसा के विरोध में क्यों सड़कों पर हमला नहीं किया?
"जब मैंने एक व्यक्ति के रूप में त्रिपुरा के निर्दोष लोगों के हितों की रक्षा के लिए नागरिकता संशोधन अधिनियम के खिलाफ आंदोलन शुरू किया, उसी राजनीतिक दलों ने दिल्ली में इसका विरोध किया लेकिन स्थानीय रूप से चुप रहे। इन राष्ट्रीय दलों को शांति, कष्ट या अविश्वासी समुदायों या अल्पसंख्यकों के विकास के बारे में कम-से-कम चिंता होती है, बल्कि वे हमेशा अपने अवसर का लाभ उठाने और अपनी वोट बैंक को बढ़ावा देने का प्रयास करते हैं,"Pradyot ने आरोप लगाया।
उन्होंने कहा कि त्रिपुरा में सांप्रदायिक संघर्ष की संस्कृति नहीं है, यह केवल हाल के वर्षों में ही विकसित हुई है।
फेसबूक ट्विटर लिंकेडिन ई-मेल

Pass

Oh No

Hand Shanking

Flower

Egg
no comment yet, Be the first to comment!